Vastu Shastra: भगवान कृष्ण कहते हैं सोते समय यह गलती इंसान को निर्धन बनाती है

Vastu Shastra: भगवान कृष्ण कहते हैं सोते समय यह गलती इंसान को निर्धन बनाती है

Vastu Shastra Me सोने की सही दिशा के बारे में बताया गया है कई बार हमारे द्वारा वास्तु शास्त्र का नियम नहीं पालन करने के कारण घर से लक्ष्मी रूठ कर चली जाती है इसके अलावा यदि आप वास्तु शास्त्र की बातों का ध्यान रखें तो आपसे लक्ष्मी जी भी नहीं रूठेंगे और जीवन में खुशियां भी आएंगी
Vastu Shastra


इंसान को किस दिशा में सोना चाहिए जिससे महालक्ष्मी खुश रहें आज इसके बारे में हम जानेंगे सोते समय आप भूल कर भी अपने बेड पर पानी घड़ी या फिर कोई इलेक्ट्रॉनिक सामान रखकर ना सोए, सर के पास किताब बिल्कुल भी ना रखें बहुत सारे बच्चे पढ़ाई करते हैं फिर वह सोते समय सर के पास किताब रख कर सो जाते हैं ऐसा बिल्कुल भी ना करें

किताबों को सर के नीचे रखकर सोने से आपको सफलता नहीं मिलेगी इन बातों का हमेशा ध्यान रखें कभी भी सोते समय आपका पैर दरवाजे की तरफ नहीं होना चाहिए ऐसा करने से मां लक्ष्मी जी का अपमान होता है घर में बीमारियां होती हैं तो सोने के समय आप अपने बेड पर हल्के रंग का बेडशीट बिछाए  और इसके साथ यदि आपका सर दक्षिण दिशा की ओर और  उत्तर दिशा, पूर्व दिशा सर और पश्चिम दिशा  पैर रखकर सोने से धन की बढ़ोतरी होती है और साथ ही आपकी आयु भी बढ़ती है. एक बात जरूर ध्यान रखें यदि आप सोते हैं तो बैठ को एकदम दीवार से सटाकर ना रखें ऐसा करने से पति पत्नी के बीच टकराव की समस्या पैदा होती है

वास्तु शास्त्र की मानें तो यदि आप पूर्व दिशा की ओर सर रखकर सोते हुए तो आपको कभी भी बुद्धि विद्या की कमी नहीं होगी  खासकर विद्यार्थियों की दुखती भी बढ़ती है और पूर्व दिशा को स्वर्ग Disha भी कहा जाता है इस दिशा पर सर रखकर सोने से शरीर को सकारात्मक ऊर्जा भी मिलती है और यदि आप पश्चिम दिशा की ओर सर रखकर सोते हैं तो आपका नाम इज्जत शोहरत सब बढ़ते चला जाता है वैसे तो वास्तु शास्त्र के अनुसार उत्तर दिशा में सर रखकर कभी भी नहीं सोना चाहिए क्योंकि इस दिशा पर सोने से आपके शरीर के अंदर जो सकारात्मक उर्जा है वह हट जाएगी और नकारात्मक उर्जा का प्रभाव होगा जो की बीमारियां पैदा करेगा यदि आप दक्षिण दिशा में सर रखकर सोएंगे तो आपको धन का लाभ होगा धन की कमी कभी भी नहीं होगी जीवन में सुख समृद्धि सब बढ़ता चला जाएगा


एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ