Riyaz naikoo: बनाना चाहता था इंजीनियर बन गया आतंकवादी

Riyaz naikoo: बनाना चाहता था इंजीनियर बन गया आतंकवादी

जम्मू कश्मीर में कर्नल समेत 8 जवानों के सहादत के बाद सुरक्षाबलों ने बुधवार को आतंकवादियों के खिलाफ एक बड़े ऑपरेशन को अंजाम दिया इस ऑपरेशन में सुरक्षाबलों ने मोस्ट वांटेड आतंकवादी हिजबुल मुजाहिद्दीन के कमांडर रियाज नायकु को मार गिराया था
Riyaz naikoo

35 साल के रियाज पर 12 लाख का इनाम था बुरहान वानी के मारे जाने के बाद घाटी पर रियाज ने हीं कमान संभाली थी घाटी में आतंक का नया पोस्टर बॉय था वहीं सेना की लिस्ट में रियाज 1++ का आतंकवादी था लेकिन क्या आप जानते हैं कि आखिर रियाज नायकु था कौन, और मोस्ट वांटेड आतंकवादी कैसे बना

नायकु की पैदाइश 1985 में अवंतीपुरा के एक छोटे से गांव में हुई थी दर्जी पिता की संतान रियाज नायकु पढ़ा अच्छा था
उनके पिता के मुताबिक उसके बारे में में 600 में से 464 नंबर आए थे इंजीनियर बनना चाहता था फिर मैथ से ग्रेजुएशन करने के बाद पास के एक स्कूल में पढ़ाने लग गया था और बातचीत लहजे के कारण वे स्कूल में जल्द ही फेमस हो गया

लेकिन साल 2012 के जून में यह सिलसिला थम गया और रियाज अचानक से गायब हो गया दरअसल मई 2012 के आसपास रियाज ने अपने परिवार भोपाल यूनिवर्सिटी में दाखिला लेने की बात कही जिसके बाद वह पिता से ₹7000 लेकर घर से निकला और फिर वापस नहीं आया कुछ वक्त बाद रियाज नायकु के परिवार वालों को पता चला कि वह आतंकी संगठन हिजबुल मुजाहिदीन में शामिल हो गया है

बताया जाता है कि साल 2010 में घाटी में हो रहे एक प्रदर्शन के दौरान पुलिस ने आंसू गैस के गोले छोड़े जिसके कारण एक 17 साल के लड़के की मौत हो गई इसके बाद इलाके में खासा हंगामा हुआ इसमें रियाज भी शामिल था ऐसे में दूसरों लोगों के साथ पुलिस ने उसे भी गिरफ्तार कर लिया और फिर बाद में छोड़ दिया

लेकिन इस घटना के बाद रियाज पर कुछ ऐसा असर पड़ा कि वह अब पहले वाला टीचर रियाज नहीं रह गया बेहद कम वक्त में ही रियाज स्कूल का करीबी हिस्सा बनता चला गया कश्मीर में जब आतंक का पोस्टर बॉय कहे जाने वाले बुरहान वानी को सुरक्षा बलों ने मार गिराया तो उसके बाद कुछ बोले नहीं रियाज को कमांडर बना दिया

कश्मीर को लेकर पाकिस्तान की नीतियों की जानकारी बोलने और भाषण देने के अंदाज ने मिलिटेंट्स के बीच नायकु को काफी लोकप्रिय बना दिया था माना जाता है कि बुरहान वानी के जाने के बाद नायकु की वजह से ही कश्मीर के काफी युवा हिजबुल से जुड़े हैं इतना ही नहीं आतंकियों के मरने की बात बंदूक से सलामी देने का चलन भी रियाज नहीं शुरू किया था

रियाज नायकु कई तरह की आतंकी गतिविधियों में शामिल रहा है पुलिस के परिवार के लोगों को अपरहण करना, सोशल मीडिया के जरिए युवाओं को आतंकी बनने के लिए उकसाना अपने संगठन के लिए घाटी के लोगों से पैसे वसूलने, रियाज नायकु के खूंखार होने का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है साल 2018 में अपने पिता असादुल्लाह नायकु को हिरासत में लिए जाने पर वह जम्मू कश्मीर के पुलिस के एक दर्जन परिवारों को अगवा कर लिया और पूरा अपरहण कांड मैच आधे घंटे के अंदर ही उसने अंजाम दे दिया जिसके बाद उसके पिता को छोड़ने के बाद ही उसने पुलिस वाले के परिवार को छोड़ा

जिसके बाद रियाज नायकु का का खौफ पूरे घाटी में फैल गया स्थिति आती थी कुछ कश्मीरी के युवा उसे अपना आइडियल तक मानने लगे थे हालांकि उनके परिवार के मुताबिक उन्होंने उसी दिन उसे मरा मान लिया था जब वह हिजबुल मुजाहिद्दीन में शामिल हो गया था

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ