India china Ladakh LAC Tension: xi jinping ने सेना को युद्ध के लिए तैयार रहने को क्यों कहा?

India china Ladakh LAC Tension: xi jinping ने सेना को युद्ध के लिए तैयार रहने को क्यों कहा?

चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग अपनी सेना को सबसे खराब स्थिति की कल्पना करते हुए युद्ध की तैयारियां तेज करने का आदेश दिया है



चीन की सत्तारूढ़ चीनी कम्युनिस्ट पार्टी के महासचिव और चीन की सेना के प्रमुख सी जिनपिंग ने संसद के दौरान पुपिल सेलिब्रेशन आर्मी और पुपिल्स आर्म पुलिस फोर्स के पूर्ण बैठक के दौरान यह बात कही


चीन की सरकारी समाचार एजेंसी के मुताबिक शी जिनपिंग ने सेना को आदेश दिया कि वह सबसे खतरनाक खराब हालात की कल्पना करें और इसके लिए सोचे व युद्ध की तैयारियों व प्रशिक्षण को बढ़ाएं तमाम जटिल परिस्थिति से तुरंत और प्रभावी तरीके से निपटने की कोशिश करें साथ ही पूरी निर्भरता के साथ राष्ट्रीय संप्रभुता, सुरक्षा और विकास संबंधी हितों की रक्षा करें

ऐसा माना जा रहा है कि चीनी राष्ट्रपति की यह टिप्पणी वास्तविक नियंत्रण रेखा यानी LAC पर भारत और चीन के बीच करीब 20 दिन से जारी गतिरोध के बाद आई है वहीं भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को वास्तविक नियंत्रण रेखा पर मौजूद स्थिति  और चीन के साथ चल रहे मौजूदा गतिरोध पर एक उच्च स्तरीय समीक्षा बैठक की

द हिंदू अखबार ने सूत्रों के हवाले से लिखा है यह बैठक सिकत कर समिति की समीक्षा को लागू करे जाने के लिए बुलाई गई थी लेकिन इसमें लद्दाख गतिरोध पर ही मुख्य रूप से चर्चा हुई इस बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के अलावा राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल, चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत और तीनों सेना के प्रमुख भी शामिल रहे

सेना प्रमुख जनरल मनोज नरवाडे ने पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा के अलग-अलग बिंदुओं पर जारी गतिरोध को विस्तार से सबके सामने रखा गतिरोध को कम करने के लिए या खत्म करने के लिए डिवीजन कमांडर स्तर पर कई दौर की वार्ता विफल रही है इससे पहले देश के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने सैन्य सुधार की समीक्षा के लिए CDS जनरल बिपिन रावत और तीनों सेनाओं के प्रमुखों और मंत्रालय के अधिकारियों के साथ मुलाकात की थी इस मीटिंग पर भी वास्तविक नियंत्रण रेखा LAC पर की चर्चा की गई थी 

हाल के दिनों में भारत और चीन के बीच लद्दाख और सिक्किम में तनाव देखने को मिला है दोनों सेनाओं के बीच बढ़ती अब तनातनी के बाद दोनों पक्षों के रूप में कठोरता दिखने लगी है

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ