DATA Leak: china की फिर खुली पोल पट्टी

DATA Leak: china की फिर खुली पोल पट्टी

1. कोरोना पर चीन हुआ फिर बेनकाब
2. कोरोना पर चीनी सेना का डाटा हुआ लीक
3. अमेरिकी अखबार ने छापी खबर
4. चीन की पोल दुनिया के सामने खुल सकती है
5. मृतकों और संक्रमितो का आंकड़ा बढ़ सकता है
China corona data leak

Corona पर चीन के दावों की पोल फिर खुल गई है दबाव है कि चीन अक्सर कहता रहता है कि उसने संक्रमण पर बहुत पहले ही काबू पा लिया था और आंकड़ा भी शुरू शुरू में 3342 बताया था जिसके बाद संशोधित 4632 किया गया साथ ही संक्रमित हो कि आंकड़ों में भी संशोधित किया गया लेकिन विश्लेषकों को अभी उसके दावे पर शक है

लीक डाटा से खुली पोल
चीन की है पोल उसकी अपनों ने ही खोलिए चीन के सेना के नेशनल यूनिवर्सिटी ऑफ डिफेंस टेक्नोलॉजी कोरोना वायरस के मामलों पर एक डाटा सेट तैयार किया है जो लीक हो गया है इस डाटा सेट को अमरीकी अख़बार ने प्रकाशित किया है डेटाबेस corona से हुई मौतों और corona से हुए संक्रमित लोगों के विस्तृत वर्णन है इसमें इस बात का भी जिक्र है कि बीजिंग ने कैसी और कितनी आबादी पर corona संक्रमण का डाटा एकत्र किया है इस डाटा के लीक होने से चीन की गड़बड़ी और चीन का पर्दाफाश भी हो सकता है

लीक हुई जानकारी और ऑनलाइन संस्करण में समानता
Corona वायरस के पब्लिश हुए इस डाटा ट्रैटर का ऑनलाइन संस्करण भी हुई जानकारी से मेल खाता है हालांकि ऑनलाइन जारी किए हुए डाटा में बहुत कम जानकारी का जिक्र है इसमें अलग-अलग मामलों पर प्रकाश डालने के बजाय सिर्फ उन जगहों के नक्शे के बारे में बताता है जहां कोरोनावायरस के मामले पाए गए हैं

अब तक का सबसे व्यापक डाटा
चीन में हुए अब तक सबसे बड़ा या व्यापक डाटा माना जा रहा है सबसे जरूरी बात यह है कि डाटासेट दुनिया भर के महामारी वैज्ञानिकों और डॉक्टर्स के लिए बहुमूल्य जानकारी के लिए काम कर सकता है जिसे बीजिंग ने अमेरिकी अधिकारियों या मीडिया से छुपा रखा है

सूचनाओं में 6 लाख 40 हजार बार सुधार
गौर करने वाली बात यह है कि इस सूचना में 6 लाख 40 हजार बार सुधार किया गया है और कोरोनावायरस के आंकड़े 230 शहरों से लिए गए हैं यह भी कहा जा सकता है कि 6 लाख 40,000 पंक्तियों में कुछ खास जगह पर ही मामलों की संख्या दिखाने की कोशिश की गई है या डाटा फरवरी की शुरुआत से लेकर अप्रैल के अंत तक का है

मरने वालों के साथ ठीक होने का आंकड़ा
डाटा में मरने वालों के साथ ठीक होने वाले का भी आंकड़ा है हालांकि यह साफ नहीं है कि डाटा किस आधार पर कंफर्म और ठीक हुए मामलों को परिभाषित कर रहे हैं चीन ने अपने काउंटिंग के तरीकों को अपडेट किया है जैसे कि हुबेई प्रांत में जब corona मरीजों की वृद्धि हुई तब यहां के अधिकारियों ने कहा था कि हम सिटी स्कैन से भी कोरोना मरीजों की पहचान कर रहे हैं

मरीजों और मृतकों के नाम का जिक्र नहीं है
अमेरिकी अखबार के द्वारा जारी इस डाटा में चीन के अस्पतालों अपार्टमेंट्स होटल सुपरमार्केट्स रेलवे स्टेशन रेस्टोरेंट्स और स्कूलों के नाम भी शामिल है डाटा corona की मृतकों व मरीजों के नाम का जिक्र नहीं किया गया है

डाटा को कैसे एकत्र किया गया जानकारी नहीं
हालांकि यह जानकारी स्पष्ट नहीं है कि इस विश्वविद्यालय में डाटा कैसे एकत्र किया, डाटा के ऑनलाइन संस्करण के अनुसार यह चीन के स्वास्थ्य मंत्रालय राष्ट्रीय आयोग मीडिया रिपोर्ट्स और अन्य शासकीय स्रोतों से एकत्र किए गए हैं

सुरक्षा कारणों से डेटाबेस सार्वजनिक उपलब्ध नहीं 
अमेरिकी अखबार ने सुरक्षा कारणों से डेटाबेस को सार्वजनिक उपलब्ध नहीं कराया है लकी कोरोना वायरस पर रिसर्च करने वाले को वह अलग तरीके से डाटा को उपलब्ध कराने की कोशिश कर रही हैं

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ