Coronavirus: अब रहस्यमई सिंड्रोम बना बच्चों के लिए खतरा, कोरोना वायरस से क्या कनेक्शन?

ads.txt

Coronavirus: अब रहस्यमई सिंड्रोम बना बच्चों के लिए खतरा, कोरोना वायरस से क्या कनेक्शन?

बच्चों को हो रही है रहस्यमई बीमारी
जब से corona वायरस वैश्विक महामारी बना है इससे संक्रमित हुए लोगों की उम्र का आंकलन किया जा रहा है आंकड़ा यह बता रहा है कि कोरोना वायरस हम हर उम्र के लोगों को प्रभावित कर सकता है लेकिन ज्यादातर उम्रदराज लोग प्रभावित हुए हैं

कोरोना वायरस के इस दौर के बीच एक रहस्यमई बीमारी बच्चों को चपेट में ले रही है पिछले कुछ आंकड़ों के मुताबिक अमेरिका यूके फ्रांस और इटली के करीब 100 ऐसे मामले सामने आए इसे मल्टीसिस्टम इंप्लीमेंटेरी स्टेट भी कहा जा रहा है इस बीमारी के लक्षण कावासाकी बीमारी जैसे हैं विश्व स्वास्थ संगठन जांच कर रहा है कि इस सिंड्रोम का कोविड-19 से कोई कनेक्शन है या नहीं

क्या है मल्टीसिस्टम इन्फ्लेमेटरी स्टेट
यह एक गंभीर इम्यून रिस्पांस है जो शरीर को कई तरह से प्रभावित कर सकता है यह ज्यादातर रक्त वाहिकाओं को आस्थिर करता है इसे कावासाकी बीमारी भी कहा जाता है इससे लो ब्लड प्रेशर, फेफड़ों व दूसरे अंगों में तरल पदार्थ बनता हैं जो कि बेहद खतरनाक होता है

मरीज के हदय फेफड़ों और किडनी को बचाने के लिए आईसीयू तक की जरूरत पड़ सकती है

बच्चों में क्या लक्षण दिखते हैं
बच्चों में असामान्य कावासाकी बीमारी और टॉक्सिक शॉक सिंड्रोम से मिलते लक्षण देखे गए हैं इस बीमारी में बच्चों को लगातार बुखार रहता है आंखें लाल हो जाती है गले व जबड़ो के पास सूजन हो जाता है दिल की मांसपेशियां ठीक से काम नहीं करती, फटे हुए होंठ, त्वचा पर लाल रंग के चकत्ते या सूखे निशान, जोड़ों में दर्द हाथ पैरों की उंगलियों में सूजन और डायरिया हो जाता है

यूरोप और अमेरिका में इस रहस्यमई बीमारी से पीड़ित जो बच्चे अस्पतालों में भर्ती हुए उनमे से कई में कोरोना वायरस की पुष्टि हुई लेकिन कुछ बच्चों में नहीं भी हुई यूरोप के नेशनल हेल्थ मिशन ने कहा जिस बच्चों में लक्षण दिखाई दे ने तत्काल अस्पताल ले जाया जाए और जांच व इलाज कराएं
फिलहाल इस बात का कोई सबूत नहीं की यह स्थिति व वायरस के बदलाव के कारण होती है

लेकिन विशेषज्ञों का मानना है कि यह कोरोना वायरस संक्रमण के बाद होने वाली इन्फ्लेमेटरी  रिस्पॉन्स हो सकती यह वयस्कों में देखा गया है जो संक्रमण के दूसरे चरण में अधिक बीमार होते हैं
उन्होंने शुरुआती फेफड़ों की बीमारी इंफ्लेमेटरी डैमेज कर सकती हैं


Post a Comment

0 Comments