सब कुछ ठीक रहा तो आम इंसान भी बनेंगे, सेना में अधिकारी व जवान

सब कुछ ठीक रहा तो आम इंसान भी बनेंगे, सेना में अधिकारी व जवान

टूर ऑफ ड्यूटी से देश में आ सकता है क्रांतिकारी बदलाव

नागरिकों में देश सेवा की भावना बढ़ाने के लिए आम लोगों को भारतीय सेना से जुड़ने के लिए एक प्रस्ताव लाया गया है इस नए प्रस्ताव के जरिए देश का जज्बा लिए उन लोगों को भी मौका मिल जाएगा जो किसी वजह से सेना का हिस्सा बनने से चूक गए थे

प्रस्ताव का नाम 'टूर आफ ड्यूटी' रखा गया है इंडियन आर्मी के सूत्रों ने कहा है कि इस तरह के प्रस्ताव पर विचार किया जा रहा है इस प्रस्ताव में आम लोगों को 3 साल तक सेना में जॉब करके देश की सेवा करने का मौका मिलेगा इसे "टूर ऑफ ड्यूटी" का नाम दिया गया है

जाहिर है इससे सेना में टूर आफ ड्यूटी के तहत युवाओं को 3 साल तक देश की सेवा करने के लिए प्रस्ताव से सेना की अरबों रुपए की बचत होगी हालांकि इस प्रस्ताव के शीर्ष सैन्य अधिकारियों के बीच मंथन चल रहा है

सेना के शीर्ष अधिकारियों के मुताबिक अगर इस प्रस्ताव को मंजूरी मिलती है तो पहले चरण में टेस्ट प्रोजेक्ट के तहत 100 अधिकारियों और 1000 जवानों की भर्ती की जाएगी इस योजना के तहत सेना अपने अरबों रुपए का बचत करके तकनीकी करण पर खर्च कर सकेगी क्योंकि अभी तक सेना को एक अधिकारी को शॉर्ट सर्विस कमीशन के तहत रिलीज करने तक परी कमीशन वेतन और खर्च के तौर पर 10 साल तक 5.12 करोड़ और 14 वर्ष के लिए 6.83 करोड़ रुपए खर्च करने पड़ते हैं

यह प्रस्ताव वास्तव में भारतीय सेना के प्रयास का हिस्सा है जिसमें देश के बेस्ट टैलेंट को अपने काम करने देश की सेवा करने का मौका मिलेगा इस समय इंडियन आर्मी में सबसे कम समय की सेवा के लिए लोग शॉर्ट सर्विस कमीशन का चुनाव करते हैं शार्ट सर्विस कमीशन के माध्यम से जो लोग इंडियन आर्मी में जॉब ज्वाइन करते हैं उन्हें भी कम से कम 10 साल तक सेना में सेवा देना पड़ता है

अगर हम भारतीय सेना की जरूरतों पर गौर करें तो सालों से अधिकारियों की भर्ती सेना में होती रही है और अब सेना चाहती है कि उनके अधिकारियों के पद जल्द से जल्द भर जाए और सेना की नियुक्ति हो वह जवानों की संख्या में वृद्धि हो.

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ