देश की तरफ तेजी से बढ़ रहा है चक्रवाती तूफान Amphan

देश की तरफ तेजी से बढ़ रहा है चक्रवाती तूफान Amphan

देश में फिर मचने वाली है तबाही

देश में कोरोना वायरस महामारी के बीच एक और तबाही ने दस्तक दे दी है यह है साइक्लोन Amphan. जो बहुत तेजी से देश के तटीय हिस्सों में बढ़ रहा है चक्रवात की वर्तमान गति 160 किलोमीटर प्रति घंटा है जानकारी के मुताबिक यह बंगाल तथा उड़ीसा के तटीय से कुछ ही दूरी पर है और 19 मई को यह चक्रवात इन इलाकों पर भीषण तबाही मचा सकता है

भारतीय मौसम विभाग के मुताबिक यह चक्रवाती तूफान Amphan साइक्लोन में बदल सकता है बंगाल की खाड़ी से ऊपर उठने वाले चक्रवात की गति और ताकत और बढ़ने की संभावना है ऐसे में इस खतरे को देखते हुए उड़ीसा के 12 जिलों और कोलकाता सहित पांच जिलों में हाई अलर्ट घोषित कर दिया गया है और इसके अलावा इन इलाकों पर मछली पकड़ने के लिए भी रोक लगा दी गई है

आपको बता दे कि भारतीय मौसम विभाग ने रविवार को बंगाल की खाड़ी के ऊपर साइक्लोन स्ट्रोम Amphan तेज होने के बाद पश्चिम बंगाल और बांग्लादेश के तटीय क्षेत्रों के लिए अलर्ट जारी किया था

इधर पश्चिम बंगाल में राज्य शासन और मौसम विभाग ने मिलकर सभी तरह के प्रयास शुरू कर दिए हैं एक तटरक्षक अधिकारी के मुताबिक प्रशासन का आदेश है कि इस तूफान में एक भी व्यक्ति को अपनी जान गवानी ना पड़े वही इस साइक्लोन की क्षमता को देखते हुए अंतरराष्ट्रीय सुरक्षा नेट को भी बंगाल की खाड़ी में रेस्क्यू और ऑडी नेशन सेंटर द्वारा सक्रिय कर दिया गया है

 मौसम विज्ञान के डायरेक्टर एच आर विश्वास ने कहा बंगाल की खाड़ी में उठा तूफान के और तेज होने की संभावना है इस दौरान तेज हवाओं के साथ भारी बारिश होने की संभावना है मछुआरों को समुद्र तट पर ना जाने की सलाह दी गई है वहीं इस चक्रवात का खतरा तमिलनाडु के पबंन पोर्ट पर भी मंडरा रहा है

मौसम विभाग के अनुसार चक्रवात तूफान अनुमान से तटीय उड़ीसा में बारिश हो सकती है जबकि अंडमान आईलैंड समेत कई जगह पर भारी बारिश होने की संभावना है तूफान की वजह से ज्यादातर तटीय राज्यों में बारिश हो सकती है

इस चक्रवात को देखते हुए मौसम विभाग की ओर से 18 से 20 तारीख के बीच ओडिशा और बंगाल के समुद्र तटों के किनारे ना जाने की सलाह दी गई है इसके अलावा जो मछुआरे समुद्र तट पर मौजूद थे उन्हें भी 17 मई को लौटने के लिए कह दिया गया था

 इधर इस चक्रवात की तीव्रता को देखते हुए एनडीआरएफ की टीम अलर्ट है साथ ही सशस्त्र बल, तटरक्षक बल को भी अलर्ट रखा गया है इसके अलावा उड़ीस और बंगाल में सुरक्षा प्रयासों को बढ़ावा देने के लिए मेडिकल टीमों के साथ बचाव दल भी तैयार है

 उड़ीसा में चक्रवात के खतरे को देखते हुए राज्य सरकार ने केंद्र सरकार से मांग की है कि राज्य से होकर ट्रेन के आवागमन को रोक दिया जाए. राज्य सरकार ने श्रमिक ट्रेनों के आने-जाने पर तीन-चार दिन के लिए रोक लगाने की मांग की है

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ