33 साल बाद दूरदर्शन में प्रसारित Ramayan ने lockdown में बनाया विश्व रिकॉर्ड

33 साल बाद दूरदर्शन में प्रसारित Ramayan ने lockdown में बनाया विश्व रिकॉर्ड

1. Lockdown में रामायण तोडें सफलता के कई रिकॉर्ड
2. रामायण ने बनाया विश्व रिकॉर्ड
3. दिन में 7.7 करोड़ दर्शकों ने देखी रामायण
4. 33 साल बाद दूरदर्शन में प्रसारित हुई है रामायण

कोरोना वायरस की वजह से देश भर में लागू lockdown के बीच 33 साल बाद दूरदर्शन पर द्वारा प्रसारित हुई रामायण ने विश्व रिकॉर्ड बनाने में सफलता हासिल की है.

रामायण दुनिया भर में सबसे ज्यादा देखने वाला धारावाहिक बन गया है राष्ट्रीय चैनल दूरदर्शन के आधिकारिक ट्विटर हैंडल से किए गए ट्वीट के मुताबिक रामायण दोबारा प्रसारण ने दुनियाभर के दर्शकों का रिकॉर्ड तोड़ दिया है और यह 16 अप्रैल को 7.7 करोड़ लोगों की संख्या के साथ दुनिया भर में सबसे अधिक देखे जाने वाला मनोरंजन धारावाहिक बन गया है

आपको बता दें कि देशभर में lockdown के चलते सब लोग घर पर ही हैं इसलिए टीवी चैनल पर प्रसारित हो रहा है किसी भी सीरियल का कोई नया एपिसोड प्रसारित नहीं हो रहा है क्योंकि lockdown के चलते टीवी धारावाहिक वेब सीरीज सीरियल्स की शूटिंग बीते 17 मार्च से बंद है जिसके चलते लोगों को कुछ नया देखने को नहीं मिल रहा था

वहीं दूसरी ओर रामायण धारावाहिक को दोबारा प्रसारित करने के लिए लंबे समय से मांग चली आ रही थी ऐसे में lockdown को देखते हुए सरकार ने रामायण सहित कई पुराने धारावाहिक को दूरदर्शन पर प्रसारित करने का फैसला लिया था सभी पुराने धारावाहिक को दर्शक बहुत पसंद कर रहे हैं

हर दिन सोशल मीडिया पर इन धारावाहिक दृश्यों को लेकर चर्चा होती रहती है मीरामार द्वारा प्रसारित होने से इनके कलाकार भी चर्चा का विषय बने हुए हैं इनमें श्री राम का रोल करने वाली अरुण गोविल हो या दीपिका सुनील अरविंद इन सभी कलाकारों को लेकर नई-नई जानकारियां सामने आ रही है

यह कलाकार भी लोगों से मिल रहे प्यार और प्रतिक्रिया से काफी उत्साहित हैं रामायण के अलावा महाभारत शक्तिमान, श्रीमान और श्रीमती, बुनियाद और देख भाई देख आदि कार्यक्रम भी दर्शकों का अच्छा मनोरंजन कर रहे हैं दूरदर्शन की टीआरपी बढ़ा रहे हैं lockdown में जहां पुरानी पीढ़ी अपने बीते हुए दौर को याद कर रही है तो वही दूरदर्शन के भी कुछ पुराने दिन लौट आए हैं जब देश के दर्शकों में सिर्फ दूरदर्शन का ही राज रहता था

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ