नमस्ते के साथ UN में स्थाई प्रतिनिधि सैयद अकबरुद्दीन ने ली विदाई

नमस्ते के साथ UN में स्थाई प्रतिनिधि सैयद अकबरुद्दीन ने ली विदाई

संयुक्त राष्ट्र संघ में भारत के स्थाई प्रतिनिधि सैयद अकबरुद्दीन रिटायर हो गए इस पद पर वह साल 2016 से थे संयुक्त राष्ट्र संघ मे भारत के पक्ष को मजबूती से रखते हुए उन्हें खूब वाहवाही मिली सैयद अकबरुद्दीन ने UN के सेक्रेटरी जनरल से आखरी बार वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बात की.

उन्होंने कहा जाने से पहले मेरी एक गुजारिश है भारतीय परंपरा के मुताबिक जब हम मिलते हैं यह विदा लेते हैं तो हम लोगों को हेलो नहीं कहते ना ही हाथ मिलाते हैं बल्कि नमस्ते करते हैं इसलिए मैं बात खत्म करने से पहले आपको नमस्ते करना चाहता हूं अगर आप भी ऐसा कर सकें तो मैं अपने एक साथी से फोटो लेने को कहूंगा.

भारत के अब तक स्थाई प्रतिनिधि सैयद अकबरुद्दीन ने UN में कई भूमिकाएं निभाई हैं आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद  मुखिया मसूद अजहर को संयुक्त राष्ट्र की तरफ से ग्लोबल आतंकी घोषित करवाने में सैयद अकबरुद्दीन ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी

चीन लगातार इसका विरोध करता रहा लेकिन सैयद अकबरुद्दीन ने हार मानने को तैयार नहीं थी आखिरकार उसे ग्लोबल आतंकी घोषित किया गया इसके अलावा ग्लोबल मंच पर चीन की तरफ से कश्मीर मुद्दा उठाने की कोशिशों को भी अकबरुद्दीन ने खारिज कर दिया

अब विदेश मंत्रालय के मुख्यालय में आर्थिक सचिव के रूप में काम कर रहे तिरुमूर्ति को न्यूयॉर्क में संयुक्त राष्ट्र में भारत का स्थाई प्रतिनिधि नियुक्त किया गया है भारत के विदेश सेवा 1985 बैच के अधिकारी तिरुमूर्ति सैयद अकबरुद्दीन की जगह ले रहें हैं इसके अलावा तिरुमूर्ति एक लेखक भी हैं

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ