भारत ने किया OIC के एजेंडे का पर्दाफाश.

भारत ने किया OIC के एजेंडे का पर्दाफाश.

भारत ने लगाई OIC को फटकार.

दुनिया corona वायरस महामारी से निपटने के लिए तलाश ढूंढ रही है लेकिन इस्लामिक देशों का संगठन (OIC) ORGANISTION OF ISLAMIC COOPERATION वजह की सियासत खेलने में व्यस्त है उसे लगता है कि दुनिया भर में मुसलमानों को लेकर इस्लामोफोबिया फैलाया जा रहा है

अभी हाल ही में OIC ने एक बयान में भारत को मुसलमान के अधिकारों की हिफाजत करने और इस्लामोफोबिया पर रोक लगाने के लिए कहा था चुकिं यह एक एजेंडे के तहत था अब भारत ने इस पर कड़ी प्रतिक्रिया दी है भारत ने OIC के बयानों को सिरे से खारिज किया है भारत में मुसलमानों की सुरक्षा का हवाला देते हुए OIC की ताजा बयान को तथ्यों से भरे और भ्रामक करार दिया

भारत ने साफ तौर पर कहां है OIC की तरफ से आया बयान बहुत खेद जनक है भारत की सलाह यही है कि इन चुनौतीपूर्ण समय में corona वायरस के खिलाफ लड़ाई को सांप्रदायिक रंग ना दे भारत ने अपने संकल्प और समन्वय से इस महामारी के खिलाफ लड़ाई को एक वैश्विक पहल बनाने की कोशिश की हैं

भारत की तरफ से OIC को दिए गए जवाब में उनके इस्लामिक एजेंडो. को दुनिया के सामने उजागर कर दिया OIC की तरफ से आए बयान में साफ झलकता है कि यह भारत को बदनाम करने की साजिश है और इस बीच को यह पहला वाकया नहीं है जब ऐसी कोशिश की गई हो

हाल ही में पाकिस्तान स्पॉन्सर्ड प्रोपेगंडा के तहत ओमान की राजकुमारी के नाम से एक फर्जी अकाउंट बनाकर भी भारत के खिलाफ दुष्प्रचार जैसे प्रयास उजागर हुए हैं जिससे यह साफ होता कि भारत को बदनाम करने की सोची समझी साजिश की जा रही है

गौरतलब है कि एच एच मोना बिंद फहद अल शेख के नाम से बने ट्विटर अकाउंट से भारत विरोधी ट्वीट किया गया था इस ट्वीट में कहा गया था कि अगर भारत यदि अपने यहां मुसलमानों का ध्यान नहीं रख सकता तो ओमान अपने मुल्क में मौजूद 10 लाख भारतीयों को निकाल देगा. और जब इस अकाउंट की जांच की गई तो पता चला कि यह एक फर्जी ट्विटर हैंडल था जो पाकिस्तान से चलाया जा रहा था इस ट्विटर हैंडल का ओमान की राजकुमारी से कोई संबंध नहीं है इस टि्वटर हैंडल को पाकिस्तान फौज के नाम से चल रहे पहचान बदलकर बनाया गया था इस साजिश के उजागर हो जाने से भारत के खिलाफ चल रही साजिश का पर्दाफाश हुआ वहीं भारत OIC को करारा जवाब देकर यह सब बता दिया है कि पाकिस्तान प्रोपेगेंडा का जो भी हिस्सा होगा उसे उसी भाषा में ही समझा दिया जाएगा

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ