India से malaysia ने मांगी मदद.

India से malaysia ने मांगी मदद.

इंडिया ने मलेशिया की आंखें खोल दी

इस समय हर देश corona वायरस से जूझ रहा है क्योंकि इस समय corona टाइम चल रहा है जाहिर सी बात है टाइम खराब है 86 लोगों की मौत के बाद मलेशिया को भी मदद की जरूरत है इस मुश्किल घड़ी में भारत आगे आया मलेशिया की मदद करने, मलेशिया के कोविड-19 पीड़ित रोगियों के इलाज के लिए भारत hydroxychloroquine देने के लिए राजी हो गया


 आप सोच रहे होंगे कि भारत तो हर किसी की मदद कर रहा है इस में नया क्या है तो आपको बता दें कि यह वही मलेशिया है जो कश्मीर में मानव अधिकारों की आड़ में जम्मू कश्मीर का विशेष दर्जा खत्म करने और nrc व caa की पाकिस्तान की हां में हां मिला रहा था आज वक्त corona का है वक्त बदला है, जरूरतें बदली है, रिश्ते बदली है, दोस्त बदले हैं दुश्मन बदले हैं लेकिन जो नहीं बदला वह हिंदुस्तान की आदत 'मदद करने की' इसी का नतीजा तो है हाल में भारत और मलेशिया के रिश्तो की कमजोर हो गई डोर  फिर से जुड़ने लगी है.

मलेशिया को एहसास जरूर हो गया होगा कि भारत दोस्त बनाना भी जानता है और दोस्ती निभाना भी तभी तो hydroxychloroquine देने के लिए जैसे ही भारत राजी हुआ वैसे ही मलेशिया के एक मंत्री ने इस बात की जानकारी दी.

आपको बता दें कि नहीं दिल्ली ने फिलहाल इस मलेरिया रोग की दवा निर्यात पर लगी हुई रोक को हटा दिया है उम्मीद है कि इस फैसले के बाद भारत और मलेशिया के रिश्ते और अच्छी तरह मजबूत होंगे, यह कोई अभिमान की लड़ाई नहीं है लड़ाई है corona वायरस की, निश्चित तौर पर मदद की जरूरत सबको है और समय है सबको एक साथ जुट होकर कोरोनावायरस से लड़ने का.

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ