How india brought kuwait back to its senses in just 24 hours.

How india brought kuwait back to its senses in just 24 hours.

कुवैत को एक दिन में भारत ने लाइन पर ला दिया

बीते रविवार को भारत की कड़ी आलोचना करने वाला कुवैत
24 घंटे के अंदर ही अपने सुर बदलने पर मजबूर हो गया 26 अप्रैल को कुवैत के काउंसलर ऑफ मिनिस्टर ने भारत में हो रहे मुस्लिमों की कथित अत्याचारों को लेकर भारत सरकार की आलोचना की थी  इसके अलावा कुवैत में ट्विटर पर भी भारत के खिलाफ काफी जहर उगला गया

इसके बाद 27 अप्रैल यानी कल भारत के विदेश मंत्रालय ने जैसे ही अपने हाथों मे यह मामला लिया वैसे ही कुवैत शाम तक कहने पर मजबूर हो गया कि वह भारत के साथ अपने रिश्तो को अहमियत देता है और वह भारत के आंतरिक मामलों पर दखल नहीं देना चाहता कुल मिलाकर 24 घंटों में ही कुवैत को रास्ते पर ला दिया

कल विदेश मंत्रालय ने एक बयान जारी करके इस पर स्पष्टीकरण दिया विदेश मंत्रालय ने कहा कि कुवैत की सरकार ने हमें यकीन दिलाया है कि वह किसी भी प्रकार से भारत की आंतरिक मामलों पर दखल नहीं देंगे. ध्यान देना होगा कि भारत ने हाल ही कुवैत में अपने रैपिड रिस्पांस टीम को भेजा था इस दौरान हमारी टीम ने टेस्टिंग किट इस्तेमाल करने से लेकर मरीजों का इलाज करने तक हर संभव मदद की थी ऐसे में हम यह चाहते कि हमारे दोनों देशों के रिश्तो को अहमियत दी जाए और सोशल मीडिया में भारत विरोधी पोस्ट करने से बचा जाए.

इसके बाद भारत में मौजूद कुवैत के राजदूत का भी बयान आया उनके मुताबिक भारत और कुवैत दोनों देशों के आंतरिक मामलों पर हस्तक्षेप ना करने का पालन करते हैं और दोनों देश एक दूसरे के संप्रभुता का भी सम्मान करते हैं इस प्रकार भारत की ताबड़तोड़ कूटनीति ने भारत के खिलाफ बोल रहे एक देश को सुर बदलने को मजबूर कर दिया

पिछले कई दिनों से अरब के सोशल मीडिया में भारत विरोधी सामग्री को धड़ल्ले से पोस्ट किया जा रहा है हाल ही में यह खबर सामने आई थी यह सब भारत के खिलाफ पाकिस्तान का साइबर वार का एक हिस्सा है इसके जरिए पाकिस्तान भारत और अरब देशों के रिश्ते खराब करना चाहता है हाल ही में ऐसे ही एक पाकिस्तानी ट्विटर अकाउंट ने ट्विटर पर ओमानी से जाति का टि्वटर अकाउंट बनाकर भारत मे हो रहे कथित मुस्लिम विरोधी अत्याचार और ट्वीट किया था जिसके बाद ओमान की इस शहजादी को खुद आकर ऐसा कहना पड़ा कि वह ऐसा कोई ट्वीट किया ही नहीं.

पाकिस्तान इस वक्त यही चाह रहा है कि कैसे भी करके भारत और अरब देशों के रिश्ते में दरार पैदा कर दी जाए हालांकि भारत का विदेश मंत्रालय बखूबी पाकिस्तान के इस साइबर वार से निपट रहा है  इसलिए तो भारत में 24 घंटे में ही कुवैत को अपने पाले में कर लिया



एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ