FDI नियम सख्त होने पर भारत पर भड़का चीन, धमकी भरे अंदाज में दी चेतावनी

FDI नियम सख्त होने पर भारत पर भड़का चीन, धमकी भरे अंदाज में दी चेतावनी

कोविड-19 संक्रमण ने पूरी दुनिया की अर्थव्यवस्था और कारोबार को अप्रत्याशित रूप से काफी ज्यादा नुकसान किया है ऐसे में चीन ने मौके का फायदा उठा कर FDI के नाम पर दूसरे देशों की कंपनियों का अधिकरण करना शुरू कर दिया है जिसके बाद भारत ने चीन की ऐसी हरकत पर संज्ञान लेते हुए FDI के नियमों में बदलाव करते हुए और सख्त करने का फैसला लिया लेकिन अब चीन भारत के इस फैसले से काफी भड़का हुआ है

भारत में FDI के नियमों में बदलाव का एतराज जताते हुए चीन का कहना है कि यह फैसला विश्व व्यापार संगठन के सिद्धांतों के खिलाफ है दरअसल FDI के नए नियमों के तहत अब भारत की सीमा से जुड़ी है किसी भी देश में नागरिक या कंपनी को निवेश से पहले सरकार की मंजूरी लेनी होगी यह नियम सिर्फ अब तक पाकिस्तान और बांग्लादेश के नागरिकों व कंपनियों के लिए ही लागू था

इधर FDI के नियमों के बदलाव के बाद दिल्ली में चीनी दूतावास के प्रवक्ता ने कहा- हमें उम्मीद है कि भारत अपनी भेदभाव वाली नीति में संशोधन करेगा और अलग-अलग देशों के निवेश के लिए एक ही तरह के नियम बनाएगा इसके साथ ही भारत अपने यहां खुला, पारदर्शी कारोबारी माहौल तैयार करेगा

जिसके बाद चीन के सरकारी अखबार ग्लोबल टाइम्स ने भारत को धमकी देने के लिहाज से एक एडिटोरियल छापा जिसमें लिखा गया चीन की वर्कफोर्स को शुक्रिया अब देश अपने लिए और पूरी दुनिया के लिए मेडिकल सप्लाई करने में सक्षम है हालांकि भारत सरकार ने इस तथ्य को नजरअंदाज किया है और विदेशी निवेश के नियमों को सख्त करने के लिए corona संकट की वजह बता दिया है भारत मेडिकल सप्लाई के लिए काफी हद तक चीन पर निर्भर है और भारतीय कंपनियों के कथित अवसरवादी अधिग्रहण को रोकने की कोशिश संकट की घड़ी में सप्लाई पाने में उसके लिए ही मुश्किल खड़ी करेगी

चीन के सरकारी लेख से साबित होता है कि भारत के सब FDI नियमों के बदले. मेडिकल सप्लाई रोकने की कोशिश कर सकती हैं दरअसल फोमिक्सकल डाटा के मुताबिक दवाइयों के लिए कच्चा माल चीन से ही खरीदता है ऐसे में FDI के और सख्त होने की वजह से भारतीय कंपनियां पहले ही चिंता जाहिर कर चुकी है कि चीन से कच्चे माल की आपूर्ति प्रभावित होने से भारत के उत्पादन में बहुत बड़ा असर पड़ सकता है

वहीं चीनी सरकारी अखबार ने अपने धमकी भरे अंदाज में इन नियमों को भारत के लिए ही घातक बताते हुए कहा कि भारत के इन नियमों के कारण चीन अन्य दक्षिण पूर्वी एशियाई देशों की तरह से रुक कर सकता है जो उसकी मदद लेने के लिए इच्छुक हैं हालांकि भारत इकलौता देश नहीं है जिसने corona संकट के चलते FDI नियमों को सख्त कर दिया है ऑस्ट्रेलिया ने भी हाल ही में फैसला लिया है विदेशी निवेश  का सभी प्रस्ताव का corona संकट के दौरान 1 रिव्यू पोर्ट आकलन करेगा वहीं जर्मनी ने भी अपनी कंपनियों की सुरक्षा के लिए पॉलिसी में संशोधन किया है ऐसे में चीन के सरकारी अखबार का यह आर्टिकल चीन की बौखलाहट को साफ जाहिर करता है

Post a Comment

0 Comments