Coronavirus: इलाज के नाम पर मरीजों का मर्डर, फ्रंटलाइन स्वास्थ्यकर्मी का खुलासा

Coronavirus: इलाज के नाम पर मरीजों का मर्डर, फ्रंटलाइन स्वास्थ्यकर्मी का खुलासा

पूरी दुनिया में corona वायरस आखिर इस वक्त अमेरिका में पनप रहा है अकेले न्यूयॉर्क Corona संक्रमण से 12000 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है वहीं पूरे अमेरिका में 10 लाख से ज्यादा संक्रमण के केस आए हैं ऐसे में अमेरिका के अस्पताल में कोविड-19 की फ्रंटलाइन स्वास्थ्य कर्मी की जिम्मेदारी निभा रही एक नर्स ने वहां के अस्पतालों की एसी हकीकत अपने दोस्त को बताई जो रूह कंपा देने वाली है उसका दावा है कि ज्यादातर कोविड-19 के पेशेंट को वेंटिलेटर में डालकर उनका इलाज नहीं हो रहा है बल्कि उनकी हत्या की जा रही है

न्यूयॉर्क के अस्पतालों की आंखों देखी बात बताने के लिए उस नर्स ने अपनी एक दोस्त सारा एनपी का हेल्प लिया जिसने उसे दिल दहला देने वाली हकीकत को यूट्यूब पर डाला है सारा एनपी भी एक नर्स है लेकिन वह कोविड-19 के मरीजों के इलाज से अलग है

यूट्यूब पर डाले गए अपने वीडियो में नर्स सारा एनपी कहती हैं- मैं यहां उसकी आवाज बन कर आई हूं मैं आपको वहीं बताने जा रही है कि उसने मुझे बताया है वह चाहती है कि यह बातें सबके के सामने आएं उसने ऐसी लापरवाही कहीं नहीं देखी है किसी को कोई भी फिक्र नहीं है वहां ठंड है और किसी को कोई भी चिंता नहीं है जैसे अंधा अंधों की अगुवाई कर रहा है लोग बीमार है लेकिन वह इसे बीमार नहीं छोड़ रहे हैं वह उनकी हत्या कर रहे हैं वे उनकी मदद नहीं कर रहे उसने हत्या जैसे शब्द इस्तेमाल किए है.... मरीजों को मरने के लिए छोड़ दिया गया है यह उसके शब्द है लोगों की हत्याएं की जा रही है और कोई देखने वाला नहीं है मरीजों को ज्यादा पता नहीं है उनके साथ परिवार के लोग नहीं होते! उन्हें बताने के लिए उनका वहां कोई नहीं होता इसलिए वह घबराए हुए रहते हैं और हामी भर देते हैं

वेंटिलेटर में बहुत ज्यादा प्रसर होता है जिसके चलते बैरोट्रॉमा  पैदा होता है इससे फेफड़ों को नुकसान पहुंचता है अगर आपने एक बार इसके लिए हामी भर दी तो, वहां से निकल कर आना मुश्किल है जब कोई मरीज सांस लेना बंद कर देता है तब भी उसे कृत्रिम सांस देकर जिंदा करने की कोशिश नहीं की जाती हैं, क्योंकि वायरस फैलने का खतरा है!

इसके अलावा सारा ने नर्सों के व्यवहार और कई सारी दूसरी व्यवस्थाओं को लेकर भी गंभीर सवाल खड़े किए हैं हालांकि  सारा ने अपने दोस्त की हिफाजत के लिए उसका नाम और जिस अस्पताल में वही काम कर रही है उसका भी नाम नहीं लिया हालांकि जब विकसित देशों में ऐसे सवाल उठ रहे हैं तो कितनी बड़ी गंभीर समस्या है यह देखने लायक होगा

Post a Comment

0 Comments