Coronavirus: पीड़ित देशों की मदद कर रहे हैं jack ma क्या china goverment को खटक रहे हैं

ads.txt

Coronavirus: पीड़ित देशों की मदद कर रहे हैं jack ma क्या china goverment को खटक रहे हैं

Jack ma चीन के अरब कारोबारी और अलीबाबा कंपनी के फाउंडर जिनका नाम आपने अक्सर दुनिया के टॉप अमीरों की लिस्ट में सुना होगा कोविड-19 महामारी के बीच जैक मा की कंपनी दुनिया भर के देशों को मेडिकल सप्लाई भेज रही है jack ma ने पिछले महीने ही ट्विटर अकाउंट खोला है और जितने भी ट्वीट किए हैं वह दुनिया भर में भेजे जाने वाली मेडिकल सप्लाई को लेकर है उनके द्वारा भेजी जाने वाली मेडिकल सप्लाई 150 देशों से अधिक देशों में पहुंच चुकी है मेडिकल सप्लाई में फेस मार्क्स से लेकर वेंटिलेटर तक शामिल है

सवाल यह भी उठ रहा है कि क्या चीन की सत्तारूढ़  कम्युनिस्ट पार्टी क्या उसे अपने लिए तो इस्तेमाल नहीं कर रही दुनिया के बाकी उद्योगपतियों ने भी corona वायरस महामारी के लिए डोनेट किया है jack ma से भी ज्यादा Donate किया लेकिन कोविड-19 महामारी कि आज जो स्थिति है उसमें कुछ देशों के लिए पैसों की जरूरत से ज्यादा मेडिकल सप्लाई की जरूरत है

उद्योगपतियों की लिस्ट में केवल jack ma ही ऐसे हैं जो मेडिकल सप्लाई जरूरतमंद देशों तक पहुंचा सकते हैं jack ma ने corona वैक्सिंग के लिए भी लाखों रुपए की मदद दी है मार्च से ही जैक मा फाउंडेशन और उससे जुड़े अलीबाबा फाउंडेशन ने अफ्रीका यूरोप नादिन अमेरिका और यहां तक कि राजनैतिक संवेदनशील कहे जाने वाले इरान इराक रूस और अमेरिका में मेडिकल सप्लाई वाले कार्गो विमान भेजना शुरू कर दिया था

जैक मा की सोहरत एक ऐसे करिश्माई इंग्लिश टीचर की है जिसने चीन की सबसे बड़ी टेक्नोलॉजी कंपनी खड़ी कर दी साल 2018 में उन्होंने आधिकारिक रूप से अलीबाबा का चेयरमैन पद छोड़ दिया था लेकिन अलिबाबा के फोर्ड में उन्हें आधिकारिक रूप से जगह बना रखी है दौलत और शोहरत दोनों मामलों में वह चीन की सबसे बड़ी ताकत है लेकिन ऐसा लगता है कि जैक मा की दरियादिली में चीन में कम्युनिस्ट पार्टी के दिशा निर्देशों का पूरी तरह से ख्याल रखा जा रहा है

जैक मा और अलीबाबा फाउंडेशन ने दुनिया के ऐसे किसी भी देश को मदद नहीं दिया जिसका ताइवान से किसी तरह का औपचारिक संबंध है ताइवान चीन का पड़ोसी और कूटनीति प्रतिद्वंदी है चीन की सरकारी मीडिया में राष्ट्रपति शी जिनपिंग का जितना जिक्र होता है जैक मा का भी नाम तकरीबन उतनी ही बार लिया जाता है

 जहां एक तरफ जैकमा को वाहवाही मिल रही होती है लेकिन सी जिनपिंग को सवालो का सामना भी करना पड़ता है चीन की सरकार में भी मेडिकल टीम में और दूसरे कई प्रभावित सामग्री कई देशों को भेजी है कई मेडिकल सवाई पहुंचाने की कोशिश नाकाम भी हुई है कई देशों ने चीन पर खराब मेडिकल सप्लाई भेजने का आरोप लगाया है लेकिन ठीक इसके उलट जैक मा की प्रतिष्ठा को हर जगह बढ़ाया ही है

राष्ट्रपति शी जिनपिंग को उन लोगों में नहीं किया जाता है जो किसी दूसरों की सुर्खियां में सम्मिलित होते हैं उनकी सरकार  अतीत में पहले भी मशहूर चेहरों को निशाना बनाया है.

Post a Comment

0 Comments