कोरोना वायरस: देश में 13.6 करोड़ नौकरियों पर संकट, खतरे में ये सेक्टर

कोरोना वायरस: देश में 13.6 करोड़ नौकरियों पर संकट, खतरे में ये सेक्टर

कोरोना बारिश के चलते देश में 13.6 करोड़ नौकरियों पर संकट, छटनी के मूड में कंपनियां.


कोरोना वायरस की वजह से देश लॉकडाउन है ऑफिस फैक्ट्री स्कूल कॉलेज सब बंद है जरूरी सेवाओं को छोड़कर देश 14 अप्रैल तक पूरा लाकडाउन है कोरोना वायरस की वजह से देश आर्थिक संकट से गुजर रहा है लोगों को वर्क फ्रॉम होम की सुविधा दी गई है लेकिन देश आर्थिक संकट से गुजर रहा है ऐसे में ताजा रिपोर्ट और भी चिंताजनक है एक रिपोर्ट के मुताबिक देश में कारोबार बंद होने से 13.6 करोड़ नौकरियों पर संकट आ सकता है बड़ी संख्या में छठनी होगी इसकी सबसे ज्यादा मार पर्यटन और पोस्टल उद्योगों के साथ मैन्युफैक्चरिंग उद्योग में पड़ने की आशंका है

कोरोना वायरस की वजह से नौकरियों पर संकट मंडरा सकता है इसका सबसे ज्यादा खतरा उन लोगों पर मंडरा रहा है जो नियमित रोजगार में नहीं है और कोई लिखित दस्तावेज नौकरी का नहीं मिला है नेशनल सैंपल सर्वे के मुताबिक ऐसे लोगों की संख्या 13.6 करोड़ है यह लोग गैर कृषि सेक्टर मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर और गैर मैन्युफैक्चरिंग क्षेत्र में और गैर सेवा क्षेत्र में हैं इन पर छठनी का खतरा मंडरा रहा है

इस कोरोना वायरस की वजह से सबसे ज्यादा खतरे में टूर एंड ट्रेवल इंडस्ट्री है कोरोना की वजह से यह इंडस्ट्री पूरी तरह से तबाह हो गई है पर्यटकों को आना जाना पूरी तरह से बंद है और अगले कुछ महीने इसके आसार भी नहीं लग रहा है ऐसे में यह इंडस्ट्री नौकरियों की छठनी को लेकर ज्यादा खतरे में है ऐसे हालात में बहुत सी एजेंसी छठनी के मूड में है लिहाजा करोड लोगों की नौकरी पर संकट मंडरा रहा है इंडस्ट्री के संगठन सीआईआई ने सिर्फ पर्यटन और हॉस्पिटलटी सेक्टर से ही 2 करोड नौकरियां जा सकती हैं रिपोर्ट के मुताबिक अक्टूबर के बाद से ही इस सेक्टर में सुधार के हालात होंगे वही मैन्युफैक्चरिंग और नॉन मैन्युफैक्चरिंग पर भी नौकरियां जाने के खतरे मड़रा रहे हैं

रोज मजदूरी कर रहे लोगों पर नौकरियों का खतरा मंडरा रहा है वही सबसे खराब स्थिति तो ऐसे कर्मचारियों के लिए है जिनके पास नियमित वेतन नहीं है  सीआईआई के मुताबिक यादि अक्टूबर 2020 से अधिक उद्योगों में वसूली होती है तो आधे से अधिक पर्यटन उद्योग की स्थिति बिगड़ेगी कोरोना वायरस के कारण भी निर्माण और ना भी निर्माण पर भी नौकरियों जाने का खतरा मंडरा रहा है गिरती मांग और आपूर्ति न होने के कारण नौकरियों पर संकट मंडरा रहे है इसका मतलब 13.6 करोड़ रोजगार भारी संकट पर है


एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ