घट रहा है विदेशी मुद्रा भंडार!

घट रहा है विदेशी मुद्रा भंडार!

Coronavirus के कारण लगातार दुनिया के साथ भारत की भी इकोनामी पस्त नजर आ रही है इस virus ने भारत के विदेशी मुद्रा भंडार को भी प्रभावित किया है RBI के ताजा आंकड़ों के मुताबिक पर 20 मार्च को भारत के विदेशी मुद्रा भंडार में 11.98 अरब डॉलर की कमी आई है इस विदेशी मुद्रा में भारी गिरावट आने के बाद विदेशी मुद्रा भंडार 469.909 अरब डॉलर रह गया है यह साल 2008 के बाद की सबसे बड़ी गिरावट है बीते छह महीनों में यह पहली बार है कि जब विदेशी मुद्रा भंडार में इतनी कमी देखी गई है

इससे पहले 20 सितंबर 2019 को विदेशी मुद्रा भंडार में गिरावट आई थी तब यह आंकड़ा 38.8 करोड़  डॉलर घटकर 428.58 अरब डॉलर रह गया था आपको बता दें कि बीते 6 मार्च को देश का विदेशी मुद्रा भंडार 5.69 अरब डॉलर बढ़ा 487.23 अरब डॉलर के सर्व कालीन उच्च स्तर कुछ हो गया था

दरअसल तेजी से फैलते हुए कोरोनावायरस को लेकर अनिश्चितता के बीच विदेशी निवेशकों का भरोसा कम हो गया है ऐसे में पैसे निकासी के आंकड़े बढ़ गए हैं इसकी वजह से रुपया 76.69 डॉलर के मुकाबले निचले स्तर पर पहुंच गया है हालांकि कोरोनावायरस के वित्तीय प्रभाव को कम करने के लिए सरकार की ओर से तमाम कदम उठाए गए हैं ऐसे में शुक्रवार को डॉलर के मुकाबले रुपया 27 पैसे की वृद्धि के साथ 74.89 प्रति डॉलर पर बंद हुआ.

विदेशी मुद्रा भंडार के मायने समझना भी बहुत जरूरी है इसका सबसे बड़ा नुकसान देश की इकॉनमी को होगा दरअसल विदेशी मुद्रा भंडार किसी भी देश के केंद्रीय बैंक द्वारा रखी गई धनराशि है या अन्य परिसंपत्तियों होती हैं ताकि विपत्ति आने पर वह अपनी देनदारी का भुगतान कर सके यह भंडार एक या एक से अधिक मुद्राओं में रखे जाते हैं आमतौर पर भंडार डॉलर या यूरो में रखा जाता है आपको बता दें कि RBI यह आंकड़े सप्ताहिक के अनुसार बयां करता है

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ