CAA पर Malaysia ने India को अब क्या कहा?

CAA पर Malaysia ने India को अब क्या कहा?

Malaysia ने india को अब क्या कहा?


Malaysia के विदेश मंत्री सैफुद्दीन अब्दुल्ला ने कहा है कि महाथिर मोहम्मद की टिप्पणी के उपजे विवाद के बावजूद भारत से संबंध अच्छे हैं!

अब्दुल्ला ने कहा कि भारत की ओर से malaysia उच्चायुक्त को सामान्य रखने राज नायक प्रक्रिया का हिस्सा था, उन्होंने कहा कि india.प्रधानमंत्री Mahathir की टिप्पणी पर स्पष्टीकरण चाहता था'  Mahathir mohamad ने 20 दिसंबर को भारत की नागरिकता संशोधन कानून पर टिप्पणी करते हुए इसे मुसलमान विरोधी बताया था

Malaysia विदेश मंत्री सैफुद्दीन अब्दुल्ला ने क्या कहा:

उच्चायुक्त को संबंध भेजना सामान्य सी बात है जब कोई Desh किसी आयोजन या टिप्पणी से असंतुष्ट होता है तो वह उच्चायुक्त को बुलाकर स्पष्टीकरण मांगता है " हमारे उच्चायुक्त datuk hidayat abdul hamid ने स्पष्ट रूप से अपनी बात रखी है

Malaysia विदेश मंत्री ने कहा दोनों देशों के बीच सब कुछ ठीक है ऐसा कोई भी मुद्दा नहीं जिससे दोनों देशों के बीच कड़वाहट आए हमारा रुख साफ है हम सभी देशों से अच्छे संबंध रखना चाहते हैं चाहे उसकी पृष्ठभूमि और विचारधारा कुछ भी हो, हम किसी देश की आंतरिक मामले में हस्तक्षेप नहीं करते हैं " लेकिन जब मुद्दा लोकतंत्र मानव अधिकार और नागरिकता का होता है तो अपनी राय रखते हैं"

अब्दुल्ला ने कहा कि दुनिया भर की सरकारे आमतौर पर किसी नेता के राजनैतिक बयान और आर्थिक कारोबारी संबंधों में अंतर करना जानती है उन्होंने कहा सभी देशों के पास किसी मुद्दे का अपना रुख होता है इसलिए एक या दो राजनैतिक बयान असहमति के कारण हो सकते हैं लेकिन इससे समस्त द्विपक्षीय संबंध खत्म नहीं हो जाते हैं

Malaysia विदेश मंत्री ने कहा कि मिसाल के तौर पर रोहिंग्या मुसलमानों कि समुदाय पर हमारा अपना रुक है लेकिन म्यांमार के साथ हमारा अपना द्वीपच्छी संबंध बिल्कुल अच्छा है म्यांमार से हमारा कारोबार बिल्कुल सामान्य और राजनैतिक मुद्दों का इन पर कोई प्रभाव नहीं है कई कंपनियां आज भी पहले की तरह वहां काम कर रही है

Malaysia प्रधानमंत्री: महाथिर मोहम्मद ने भारत के नागरिकता कानून दुखद और भारत के मुसलमानों के विरोधी बताया था प्रधानमंत्री की इस टिप्पणी पर भारत ने कहा था कि Malaysia प्रधानमंत्री ने इस कानून को बिना पढ़े और बिना समझे ही टिप्पणी दी थी

भारत की संसद ने हाल ही में एक बिल पास किया था जिसमें पड़ोसी देश पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान में धार्मिक रूप से प्रताड़ित अल्पसंख्यकों को भारत की नागरिकता देने का प्रावधान है दोनों देशों की तनातनी के बीच
Malaysia ने चीन और भारत के पर्यटकों को पहले से बिना पर्यटक वीजा आने की छूट दी है यह छूट जनवरी 2020 से भारतीय पर्यटकों को पूरे साल मिलेगी malaysia ने इसके लिए सरकारी आदेश जारी किया है

 इसके तहत भारत और चीन के पर्यटकों को बिना वीजा के 15 दिन मलेशिया में घूमने की छूट दी गई है इस सरकारी आदेश पर मलेशिया के प्रधानमंत्री ने 26 दिसंबर को हस्ताक्षर किया था इसके लिए दोनों देशों के पर्यटकों को इलेक्ट्रॉनिक ट्रैवल रजिस्ट्रेशन कराना जरूरी होगा इस रजिस्ट्रेशन के बाद 3 महीने के अंदर malaysia घूमा जा सकता है इस सुविधा के तहत भारतीय 15 दिनों तक मलेशिया घूम सकता है

नागरिकता संशोधन कानून टिप्पणी से पहले malaysia के प्रधानमंत्री ने इसी साल सितंबर महीने में न्यूयॉर्क में संयुक्त राष्ट्र की आम सभा में कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने का मुद्दा उठाया था" mahathir mohamad ने संयुक्त राष्ट्र में कहा था कि india ने कश्मीर पर हमला करके अपने कब्जे में रखा है india ने इसे लेकर कड़ी आपत्ति जताई थी और कहा था malaysia उसके आंतरिक मामलों में दखल दे रहा है

इसके पहले zakir naik के प्रत्यर्पण को लेकर के भी दोनों देशों के बीच विवाद रहा है zakir naik 2016 से भारत को छोड़कर मलेशिया में रह रहा है zakir naik पर भारत में नफरत फैलाने वाला भाषण देने का आरोप है malaysia मुस्लिम देश है और zakir naik को यहां स्थाई निवास मिला हुआ है

Malaysia और Pakistan के बीच  लंबे समय से अच्छे रिश्ते रहे हैं 1957 में malaysia की आजादी के बाद pakistan उन देशों में शामिल था जिसने सबसे पहले संप्रभुता देश malaysia को मान्यता दी थी

 भारत में खाने में इस्तेमाल होने वाले बाम तेल का हिस्सा दो तिहाई है भारत हर साल 9000000 टन तेल आयात करता है जो मुख्य रूप से इंडोनेशिया और मलेशिया से होता है
2019 के पहले 9 महीनों में भारत ने मलेशिया से 31 lakh टन बाम तेल का आयात किया था

Benefit of boil egg


 ठंड से होने वाली बीमारियों से बचने के


Super healthy food

Post a Comment

0 Comments