छोटा सा Bangladesh भारत से आगे निकल जाएगा?

छोटा सा Bangladesh भारत से आगे निकल जाएगा?

 छोटा सा Bangladesh भारत से आगे निकल जाएगा?

पूरी दुनिया में मंदी का माहौल है उसके बावजूद भी Bangladesh और वियतनाम जैसे देश आर्थिक तरक्की कर रहे हैं और वो कौन से कारण है  जिसकी वजह से भारत की ग्रोथ कम हुई है



देश की इकॉनमी को चमका देंगे, गरीबी मिटा देंगे ,किसान को सालों में खुशहाल बना देंगे और युवाओं को नौकरी की भरमार कर देंगे तमाम ऐसे  वादे मोदी सरकार ने किए थे मोदी सरकार ने ही 5 ट्रिलियन डॉलर इकोनामी का लक्ष्य भी रखा है लेकिन असल असलियत यह है कि हम बांग्लादेश वियतनाम और नेपाल जैसे देशों से भी पिछड़ रहे हैं


अप्रैल-जून की ही बात कर ले इस तिमाही में भारत की GDP 6 साल के सबसे निचले स्तर पर पहुंच गई है अप्रैल-जून तिमाही में भारत की आर्थिक विकास दर 5% रही Bangladesh की GDP 7.9% रही नेपाल की GDP 7.1% रही जबकि चीन की GDP ग्रोथ 6.2% रही हालांकि हर देश का GDP कैलकुलेशन का फार्मूला अलग होता है लेकिन भारत Aankdho के खेल में छोटे-छोटे देशों से पिछड़ते जा रहे हैं इकॉनमी को पटरी पर लाना इस वक्त मोदी सरकार के लिए सबसे बड़ी चुनौती है



इन दिनों ek sawal trend में है कि क्या 1971 में बना बांग्लादेश कुछ आने वाले साल में तरक्की के मामले में भारत से भी आगे निकल जाएगा वैसे अगर हालिया Aankdho की बात करें तो लगता है ऐसा ही है कि अगर ऐसा हो तो हैरानी नहीं होनी चाहिए

Asia के अधिकतर देशों के आगे बढ़ने की कहानी  करीब एक जैसी ही है वह चीन हो साउथ कोरिया भारत हो या फिर अब बांग्लादेश यह सभी देश कुछ दशकों तक Gareb Desh में शुमार किए जाते थे फिर उन्होंने गरीबी से औद्योगिकरण की ओर रुख किया शुरुआत हल्की फुल्की मैन्युफैक्चरिंग से हुई आमतौर पर टैक्सटाइल इंडस्ट्री के साथ और Bilkul बड़े and जटिल उत्पादों के साथ मैन्युफैक्चरिंग शुरू हुई फिर इसी क्रम में हिंदुओं ने विकास के नाम पर अपनी पहचान कायम की और फिर खुद की तकनीकी विकसित कर ऊपर उठने लगे फिर जैसे-जैसे यह देश अमीर हुए यहां प्रति व्यक्ति आय बड़ी जीवनशैली बेहतर हुई



यही कहानी अब बांग्लादेश की भी लगती है बांग्लादेश में विदेशी निवेश और विदेशों से कारोबार हासिल करने के मामले में पिछले कुछ सालों में शानदार तरक्की की Nike,Addidas,fila,puma जैसे मशहूर Brand apne जूते कपड़े बांग्लादेश में तैयार करवा रहे हैं दुनिया की तकरीबन हर गवर्नमेंट कंपनी का वंडर बांग्लादेश में उपलब्ध है इनमें कई china, taiwan और india से apni Dukane समेटकर बांग्लादेश चले गए हैं बांग्लादेश इस समय दुनिया का चीन के बाद दूसरा सबसे बड़ा गारमेंट उत्पादक देश है!

ग्लोबल गारमेंट निर्यात में बांग्लादेश की हिस्सेदारी 14% से ज्यादा है 2014 में बांग्लादेश के कुल निर्यात में रेडीमेड गारमेंट्स उद्योग की सितार 81% थी 2019 में बढ़कर यह 84% होने का अनुमान है
2016 17 में चीन के गारमेंट्स उत्पादन 7% घटा जबकि बांग्लादेश में बढ़ा



अब भारतीयों से जुड़ी सबसे अहम जानकारी!  बांग्लादेश में तकरीबन पांच लाख भारतीय कानूनी तौर पर नौकरी कर रहे हैं और इनमें सबसे ज्यादा गारमेंट्स सेक्टर में है!  इससे हटकर भी टेलीकॉम ,इंजीनियरिंग और खेती में भी भारतीय मौजूद है कई भारतीय कंपनी भी हजारों करोड़ का निवेश बांग्लादेश में कर चुकी हैं

India में मैन्यूफैक्चरिंग sector घट रहा है तो बांग्लादेश में बढ़ रहा है बेशक पिछले कुछ सालों में भारत ऑटो और स्मार्टफोन उत्पादन इस क्षेत्र में दुनिया के टॉप 5-6 बड़े में शुमार हो चुका है लेकिन हकीकत यह भी है कि भारत में overall मैन्युफैक्चरिंग घटी है प्रति व्यक्ति आय के मामले में बांग्लादेश और भारत के करीब पहुंच रहा है  अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष आईएमएफ के अनुसार बांग्लादेश में साल प्रति व्यक्ति आय 1750$ हो गई वहां गरीबी घट रही है आईएमएफ के अनुसार साल 2019 में भारत में प्रति व्यक्ति आय 2199 डॉलर रही अगर यही हालात रहे तो 1 से 2 साल में संभव है कि बांग्लादेश इस मामले में हम से आगे निकल जाएगा


Bangladesh में लोगों की औसत उम्र 72 साल है जबकि भारत में 68 साल और पाकिस्तान में 66 साल कहीं मोर्चों में बांग्लादेश ना कि पाकिस्तान बल्कि भारत से भी आगे निकल चुका है
1. बाल मृत्यु दर और लैंगिक समानता में भी बांग्लादेश भारत को पछाड़ चुका है एक जमाना था कि बांग्लादेश से अकाल की खबरें आती थी लेकिन 70 के दशक में भी वहां कैसी क्षेत्र की क्रांति शुरू हुई और तब से यह बदल गई और वो लगातार कृषि उत्पादन में खासी वृद्धि कर रहा है बेशक भारत दुनिया के बड़े कृषि उत्पादन देशों में एक है लेकिन अब भारत की GDP में कृषि का योगदान कम हो रहा है दवाइयां बनाने के क्षेत्र में भी बांग्लादेश तेजी से आगे बढ़ रहा है

Bangladesh ke आगे बढ़ने की वजह यह भी है कि वो विदेशी कंपनियों को बड़ी छूट भी दे रहा है और अगर उन्हें बाहर से कच्चा माल  आयात करना हो तो कोई Tax नहीं लगेगा यह ऐसी पॉलिसी है जिससे मैन्युफैक्चरिंग में वृद्धि आ गई है दुनिया के बड़े फ्रांस अब बांग्लादेश में अपने यूनिट लगा रहे हैं



Bangladesh के बारे में हम आपको इसलिए बता रहे हैं क्योंकि बांग्लादेश जैसा छोटा देश ग्लोबल मंदी के बावजूद आर्थिक तरक्की कर रहा है तो भारत जैसे बड़ा देश क्यों नहीं कर सकता जबकि india में सस्ती जमीन और सस्ते लेबर की भरमार है बस जरूरत है तो राजनैतिक इच्छाशक्ति की अब वक्त हो गया है कि भारत व बांग्लादेश जैसे देशों से सीखे और New india की नींव रखें



Post a Comment

0 Comments